Logo Centrum Myśli Jana Pawła II

कॉमन स्काई के तहत दूसरी ग्रीष्मकालीन फिल्म समीक्षा

२०२३ संस्करण

Pod wspólnym niebem plakat

12 जुलाई को कॉमन स्काई के तहत दूसरी ग्रीष्मकालीन फिल्म समीक्षा शुरू होगी, जो 6 ससतंबर तक चलेगी। हम आपको प्रत्येक बुधवार को 20:00 बजे 11 िोक्सल स्रीट पर हमारे आटट हाउस के प्रांगण में आमंत्रित करते हैं ।

इस वर्ट, आटट हाउस के प्रांगण में, हम यूक्रेन, बेलारूस, जॉर्जटया और भारत की भावनात्मक और चचंतनशील फिल्में प्रस्तुत करेंगे। हमारी ओपन-एयर स्क्रीननंग में हाल के वर्ों के 15 सबसे ददलचस्प शीर्टक शासमल हैं – िीचर फिल्में और वृत्तचचि, िीचर फिल्में और लघु फिल्में, जो उन देशों की समकालीन सामार्जक-सांस्कृनतक छवव को चचत्रित करती हैं जहां से वारसॉ के प्रवासी आए थे और उनकी पाररवाररक घर छोड़ने के कारण और पररणाम एवं भावुक कहाननयााँ दशाटते है।

प्रत्येक स्क्रीननंग के साथ आमंत्रित अनतचथयों, ववसभन्न क्षेिों के ववशेर्ज्ञों के साथ बातचीत भी होगी। इनमें ऐसे यािी, पिकार, पुस्तक लेखक और फिल्म ननमाटता होंगे जो प्रस्तुत घटनाओं और उनके संदभों को न केवल ससनेमा स्क्रीन से जानते हैं, बर्ल्क अपने पेशेवर और ननजी अनुभवों और रुचचयों से भी जानते हैं।

हम आपको संयुक्त रूप से एक सुरक्षक्षत, रचनात्मक बैठक और अंतरसांस्कृनतक संवाद के सलए जगह बनाने के सलए आमंत्रित करते हैं – जो अन्यता के डर और अलगाव की भावना को दूर करने में मदद करेगा।

सभी मूवी नाइट्स में प्रवेश ननिःशुल्क है!

कायटक्रम

  • 12 जुलाई
    ऑतर की मृत्यु (2021), डायरेक्टर लोसेब 'सोसो’ र्ललयाडेज़, फिक्शन, 105′, जॉर्जटया
  • 19 जुलाई
    प्रनतत्रबम्ब (2021), डायरेक्टर वैलेर्न्टन वास्यानोववच, िीचर फिल्म, 127′, यूक्रेन
  • 26 जुलाई
    आख़िरी शो (2021), डायरेक्टर समस्टर नसलन, फिक्शन, 110′, भारत, फ्ांस, यूएसए
  • 2 अगस्त
    बेलारूसी वाल्ट्ज (2007), डायरेक्टर फ़िडिक द्वारा निर्देशित, वृत्तचचि, 74′, पोलैंड
    जब िूल चुप नहीं होते (2021), डायरेक्टर आंद्रेज कुचचवा , वृत्तचचि, 71′, बेलारूस, पोलैंड
  • 9 अगस्त
    शंकर की पररयााँ (2021), डायरेक्टर इरफाना मजूमदार, िीचर फफल्म, 88′, भारत
  • 16 अगस्त
    हेमलेट ससंड्रोम (2022), डायरेक्टर एर्ल्वरा नीवेएरा, वपयोि रोसोलोव्सस्की, डॉक्यूमेंरी, 85′, पोलैंड, जमटनी
    एक घोड़े के बारे में परी कथा (2021) – डायरेक्टर उसलयाना ओसोव्सस्का, डेननस स्रास््नीज, डॉक्यूमेंरी, 75′ यूक्रेन, एस्टोननया
  • 23 अगस्त
    मातृत्व (2017), डायरेक्टर मररयम खाचवानी, फिक्शन, 97′, जॉर्जटया
    गीली रेत (2021), डायरेक्टर एलेन नवेररयानी, िीचर फिल्म, 115′, जॉर्जटया, र्स्वट्जरलैंड
  • 30 अगस्त
    समन्स्क (2021), डायरेक्टर बोररस गट्स, फिक्शन, 78′, एस्टोननया, रूस
    आवाज़ें (2022), डायरेक्टर डॉकवेव, वृत्तचचि, 50′, बेलारूस, पोलैंड

लघु एवं मध्यम फिल्म समीक्षा

  • 6 ससतंबर
    लाइव (2022), डायरेक्टर मारा टैमकोववज़, फीचर फफल्म, 14′, पोलैंड, बेलारूस
    प्टीट्स (2022), डायरेक्टर अलीना मर्क्समेंको, वृत्तचचि, 30′, पोलैंड, यूक्रेन
    द लास्ट समर (2022), डायरेक्टर इहार क्लीननंग, वृत्तचचि, 43′, पोलैंड, बेलारूस द
    आख़िरी शूरवीर (2020), डायरेक्टर डेववड गुरगुसलया, वृत्तचचि, 42′, पोलैंड, जॉर्जटया

उपशीर्टक: पोसलश
पोसलश और अंग्रेजी उपशीर्टक

वववरण:

आखखरी शो (2021)

  • िीचर फिल्म
  • अवचध: 105′
  • देश: भारत, फ्ांस यूएसए
  • भार्ा: गुजराती
  • श्री नसलन द्वारा ननदेसशत
  • पटकथा: श्री नसलन
  • तस्वीरें: स्वर्प्नल एस सोनावणे
  • संपादन: श्रेयस बेल्टांगडी, पवन भट्ट
  • संगीत: ससररल मोररन
  • कलाकार: भाववन रबारी, भावेश श्रीमाली, ऋचा मीना, दीपेन रावल, परेश मेहता

वववरण:

समय, एक भारतीय गााँव का नौ वर्ीय लड़का, स्थानीय स्क्रीन पर देखी गई छववयों से रोमांचचत है और ननदेशक बनने का सपना देखता है। हालााँफक, उनके सख्त वपता इस जुनून को स्वीकार नहीं करते और उसे फिल्में देखने से रोकते हैं। समय हार नहीं मानता है और एक प्रोजेक्शननस्ट से दोस्ती करता है जो उसे समय की मां द्वारा तैयार फकए गए स्वाददष्ट घर के खाने के बदले में शो में भाग लेने की अनुमनत देता है। हालााँफक, जल्द ही, इस स्पष्ट जोड़ी को ससनेमा में हो रहे अपररहायट पररवतटनों के कारण ददटनाक ववकल्प चुनना होगा।

आखखरी स्क्रीननंग ससनेमा के जादू और फिल्म के प्रनत प्रेम के बारे में एक फिल्म है – युवा दशटकों के सलए इंडडयन ससनेमा पैराडाइसो। यह फिल्म सवटश्रेष्ठ अंतराटष्रीय फिल्म के सलए भारत की आचधकाररक 2023 ऑस्कर प्रववर्ष्ट भी थी।

त्यौहार और पुरस्कार:

  • सैटेलाइट अवार्डटस (2023) – सवटश्रेष्ठ असभनेता का पुरस्कार
  • एसशयाई ववश्व फिल्म महोत्सव (2022) – सवटश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार
  • आईएिएि वलाडोसलड (2021) – सवटश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार
  • डायस डी ससने अवाडट (2021) – सवटश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार

शंकर की पररयााँ (2021)

  • िीचर फिल्म
  • अवचध: 88′
  • देश: भारत
  • भार्ा: दहंदी
  • लेखन: ननदेशन इरफान मजूमदार ने फकया
  • पटकथा: नीता कुमार
  • तस्वीरें: सनी बनजी
  • संपादन: तनुश्री दास
  • संगीत: पीटर वान र्ज़ल
  • कलाकार: जयदहंद कुमार, श्रीजा समश्रा, गौरव सैनी, इरफाना मजूमदार, अदववक माथुर

वववरण:

भारत, 1962। शंकर एक बेहद प्रनतभाशाली बटलर है जो एक अमीर पुसलस अचधकारी के घर में काम करता है। उसके बॉस और unki पत्नी उसकी सराहना करते हैं, खासकर उसके पाक कौशल के सलए।

हालााँफक, इस नायक के भी अपने सपने और रहस्य हैं, र्जन्हें वह केवल अपने ननयोक्ता की बेटी अंजना के साथ साझा करता है। साथ समलकर, वे एक काल्पननक परी दुननया बनाते हैं जहां वे अपनी कठोर वास्तववकता से बच सकते हैं। इस बीच, पास के एक गााँव में, शंकर की बेटी गंभीर रूप से बीमार पड़ जाती है और वह घर लौटना चाहता है।

शंकर की पररयााँ 1960 के दशक में भारत में बड़े होने का एक अंतरंग चचिण है। गमटजोशी, हास्य और भावना से भरी एक कहानी, जो एक ही समय में भारत में अंतरवगीय और सांस्कृनतक संबंधों की जदटलता को बहुत सटीक रूप से दशाटती है।

त्यौहार और पुरस्कार:

  • लोकानो आईएिएि (2021) – मुख्य प्रनतयोचगता
  • हांगकांग एसशयाई फिल्म महोत्सव (2021) – मुख्य प्रनतयोचगता
  • सशकागो अंतराटष्रीय फिल्म महोत्सव (2021) – मुख्य प्रनतयोचगता

कैमरे के साथ प्रदशटन बनाने की प्रफक्रया का अवलोकन करते हुए, हेमलेट ससंड्रोम एक करीबी, अंतरंग पररप्रेक्ष्य से यूएसएसआर के पतन के बाद पैदा हुई पहली यूक्रेनी पीढी को चचत्रित करता है, जो संघर्ों से टूटे हुए देश को बदलने और अपने जीवन को व्सयवर्स्थत करने की कोसशश कर रही है।



Opublikowano 06.06.2023

ZOBACZ RÓWNIEŻ

„Uczyń z życia arcydzieło” – czy wiecie, czym zainspirowane jest hasło, które uczyniliśmy jednym z ważnych drogowskazów naszej pracy?
2 kwietnia przypada 19. rocznica śmierci Jana Pawła II. Z tej okazji przygotowaliśmy publikacje skupiające się na temacie przemijania i poświęcenia. Zapraszamy także na kolejną debatę w ramach projektu „Porozmawiajmy o człowieku”
Śmierć drugiej osoby nie musi kojarzyć jedynie z bólem i cierpieniem, a hospicjum z miejscem do umierania.
Życzymy Wam pokoju, nadziei oraz sił do zmieniania świata na lepsze

Klikając „Zgadzam się” udzielasz zgody na przetwarzanie Twoich danych osobowych dotyczących Twojej aktywności na naszej witrynie w celach analitycznych, zapewnienia prawidłowego działania funkcjonalności z serwisów społecznościowych oraz serwerów treści. Szczegółowy opis celów i zakresu przetwarzanych danych znajdziesz tutaj.